Sunday , 27 May 2018
Breaking News
Home » India » प्रदर्शनों से नुकसान पर तय हो जवाबदेही : सुप्रीम कोर्ट

प्रदर्शनों से नुकसान पर तय हो जवाबदेही : सुप्रीम कोर्ट

supreme court delhi pollutionनई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि धरना प्रदर्शन के दौरान सार्वजनिक और निजी संपत्ति को होने वाले नुकसान के लिए जवाबदेही तय होनी चाहिए और पीडि़तों को मुआवजा मिलना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में कहा है कि तमाम राज्य और केंद्र शासित प्रदेश इसको लेकर अदालत का गठन करें और अदालत के जरिये प्रदर्शनों से होने वाले नुकसान के लिए जवाबदेही तय की जाएगी, साथ ही इस दौरान पीडि़तों को मुआवजा दिया जाएगा।
सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि देश में हर नागरिक को शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन का अधिकार है और यह मौलिक अधिकार है लेकिन साथ ही इस बात का अधिकार नहीं है कि सार्वजनिक या फिर निजी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया जाए। शांति भंग करने वालों की जिम्मेदारी तय हो और पीडि़तों को मुआवजा मिले, यह सुनिश्चित होना चाहिए।
सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आमतौर पर देखने में आता है कि प्रदर्शन के दौरान कई बार जानमाल का नुकसान होता है। पीडि़तों को हर्जाना दिए जाने का कोई मैकेनिजम नहीं है जबकि 2007 में इसको लेकर गाइडलाइंस तय की गई थीं। हाई कोर्ट या फिर सुप्रीम कोर्ट में ऐसे मामलों को निपटारे में परेशानी है। सुप्रीम कोर्ट ने सलाह दी कि ऐसे में इस तरह की व्यवस्था होनी चाहिए कि लोग वहां शिकायत कर सकें और कानूनी दायरे में मुआवजा मांग सकें। सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल कर कहा गया था कि इस बाबत 2007 में जो गाइडलाइंस बनाए गये थे उनका पालन हो।
सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्रदर्शन के दौरान सार्वजनिक संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने वालों के खिलाफ मुकदमा चलाने के लिए हाई कोर्ट की सलाह पर जिला जजों को जिम्मेदारी दी जाए। अदालत ने कहा कि जो भी सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाते हैं, ऐसे नुकसान पहुंचाने वाले नेताओं और राजनीतिक पार्टियों के खिलाफ मुकदमा चलना चाहिए।
सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार की ओर से पेश अटॉर्नी जनरल के.के. वेणुगोपाल ने कहा कि सरकार प्रीवेंशन ऑफ डैमेज टू पब्लिक प्रॉपर्टी ऐक्ट में बदलाव करने को लेकर कदम उठा रही है। इसके लिए बिल का ड्रॉफ्ट तैयार है। इसमें तमाम हितधारकों से राय मांगी गई है। इसके लिए इस पर होम मिनिस्ट्री की साइट के जरिये राय मांगी गई है। अदालत ने कहा कि वह उम्मीद करती है कि सरकार उसकी सलाह पर विचार करेगी। सुनवाई के दौरान पिछले दिनों दार्जिलिंग में हुए प्रदर्शन का भी जिक्र किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*