Sunday , 25 June 2017
Top Headlines:
Home » India » ‘जयललिता के बेटे’ को जज ने कहा- जेल भेज दूंगा

‘जयललिता के बेटे’ को जज ने कहा- जेल भेज दूंगा

Views:
0

चेन्नै। खुद को तमिलनाडु की पूर्व सीएम और दिवंगत अन्नाद्रमुक नेता जयललिता का बेटा बताने वाला एक शख्स शुक्रवार को हाई कोर्ट की नाराजगी का शिकार हो गया। मद्रास हाई कोर्ट के जस्टिस आर महादेवन ने गुस्से भरे लहजे में कहा, मैं इस आदमी को यहां से सीधे जेल भेज सकता हूं। मैं पुलिसवालों को कहूंगा कि वह इसे अभी जेल ले जाएं। बता दें कि लंबी बीमारी के बाद जयललिता का बीते साल 5 दिसंबर को निधन हो गया था।
खुद को जयललिता का गुप्त बेटा बताने वाले इस शख्स का नाम जे कृष्णमूर्ति है। उसने कोर्ट में कहा था कि वह जयललिता और दिवंगत तेलुगु ऐक्टर शोभन बाबू का बेटा है। अपनी बात साबित करने के लिए उसने कई दस्तावेज भी कोर्ट के सामने रखे थे। इनमें कथित तौर पर गोद लिए जाने से जुड़े कागजात भी शामिल हैं। कृष्णमूर्ति ने कोर्ट से गुहार लगाई कि उसे जयललिता का बेटा घोषित किया जाए ताकि वह उनकी संपत्ति का उत्तराधिकारी बन सके।
कृष्णमूर्ति ने यह भी मांग की थी कि राज्य के डीजीपी को उसकी हिफाजत का आदेश दिया जाए। उसने जयललिता के सहयोगियों और एआईएडीएमके प्रमुख वीके शशिकला की ओर से अपनी जान पर खतरे का अंदेशा जताया था। यह मामला शुक्रवार को जज के सामने आया। जस्टिस महादेवन ने कहा कि साफ तौर पर नजर आता है कि कागजात के साथ जालसाजी की गई है। उन्होंने कहा, ये कागजात ऐसे हैं कि इन्हें अगर एलकेजी के स्टूडेंट के सामने भी रखा जाएगा तो वह बता देगा कि ये जाली हैं। आपने एक ऐसी फोटो लगाई जो पब्लिक डोमेन में उपलब्ध है। आपको क्या लगता है कि कोई भी चलते हुए यहां आएगा और पीआईएल दाखिल कर लेगा? इस शख्स ने दस्तावेज के साथ जालसाजी की है। इनके ऑरिजनल कहां हैं?
याचिकाकर्ता कृष्णमूर्ति ने दावा किया था कि उसका जन्म 1985 में हुआ। इसके एक साल बाद उसे वसंतमणि नाम के शख्स के परिवार ने गोद लिया। वसंतमणि कथित तौर पर 80 के दशक में पूर्व सीएम एमजी रामचंद्रन के घर में काम कर चुका था। याचिकाकर्ता के मुताबिक, गोद लिए जाने से जुड़े दस्तावेज पर जयललिता, शोभन बाबू और वसंतमणि के दस्तखत हैं। वहीं, इस पर एमजी रामचंद्रन के भी बतौर गवाह साइन हैं। जज ने अविश्वास जताते हुए कहा कि जिस वक्त यह दस्तावेज कथित तौर पर तैयार किया गया था, उस वक्त एमजी रामचंद्रन अपना एक हाथ हिलाने की स्थिति में भी नहीं थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*