Saturday , 26 May 2018
Breaking News
Home » India » छात्रों का प्रदर्शन, कोचिंग सेंटरों पर छापे

छात्रों का प्रदर्शन, कोचिंग सेंटरों पर छापे

सीबीएसई पेपर लीक

नई दिल्ली। सीबीएसई के 10वीं के गणित और 12वीं के अर्थशास्त्र का पेपर लीक होने और फिर से परीक्षा कराए जाने को लेकर छात्रों और अभिभावकों में आक्रोश है। दिल्ली में गुरूवार को वे जंतर-मंतर पर जुटे और सीबीएसई के फैसले के खिलाफ प्रदर्शन किया। वहीं पुलिस ने दोषियों पर कार्रवाई शुरू कर दी है।
पुलिस को शक है कि पेपर लीक के पीछे दिल्ली के कोचिंग सेंटरों का हाथ हो सकता है। गुरूवार दोपहर द्वारका, रोहिणी, राजेंद्र नगर में कोचिंग सेटरों पर छापे भी मारे गए। इस मामले के मास्टरमाइंड बताए जा रहे विद्या कोचिंग सेंटर के मालिक विक्की को हिरासत में लिया गया है। क्राइम ब्रांच ने सीबीएसई से जानकारी भी मांगी है।
उधर, सरकार भी इस मामले पर सफाई देने के लिए सामने आई है। केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि पेपर लीक की घटना दुखद है। वह छात्रों और उनके परिजनों की परेशानी को समझते हैं। उन्होंने कहा कि वह खुद भी एक पैरंट हैं। इस घटना से वह भी सो नहीं पाए हैं। पेपर लीक की घटना में शामिल किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा। पुलिस जल्द ही उन्हें गिरफ्तार करेगी। बता दें कि बुधवार को पेपर लीक की खबरों के बाद सीबीएसई ने फिर से परीक्षा कराने की घोषणा की थी। पेपर लीक केस में सीबीएसई अधिकारियों से भी पूछताछ की जा सकती है। प्रदर्शन कर रहे छात्रों और पैरंट्स का कहना है कि या तो सभी विषयों की परीक्षा फिर से होनी चाहिए या फिर किसी भी विषय की नहीं। पैरंट्स का कहना है कि परीक्षा के लिए बच्चों के ऊपर मनोवैज्ञानिक दबाव होता है। जिन बच्चों ने पूरी मेहनत और ईमानदारी से अपनी परीक्षा दी उन्हें भी फिर से परीक्षा के तनाव से गुजरना होगा।
सीबीएसई की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा और जल्द ही इन लोगों को पकड़ लिया जाएगा। दूसरी तरफ केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने भी कहा है कि भविष्य में ऐसी कोई घटना न हो इसके लिए लीक पू्रफ प्रणाली विकसित की जाएगी। बता दें कि पेपर लीक और फिर से परीक्षा कराने को लेकर सीबीएसई की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठ रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि प्रधानमंत्री मोदी ने भी पेपर लीक को लेकर अपनी नाराजगी जाहिर की है और फोन पर मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जवाड़ेकर से बात की। बता दें कि इस पूरे मामले में सबसे हैरान करने (शेष पेज 8 पर)25 लोगों से पूछताछ
नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के 10वीं (गणित) और 12वीं कक्षा के अर्थशास्त्र के प्रश्नपत्र लीक मामले में 25 लोगों से पूछताछ की है।
पुलिस अधिकारियों के मुताबिक प्रश्नपत्र लीक मामले में अब तक 25 लोगों से पूछताछ की गयी है, जिनमें 18 छात्र, 5 शिक्षक और दो आम लोग शामिल हैं। विशेष पुलिस आयुक्त आर पी उपाध्याय ने यहां एक प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि कि सीबीएसई क्षेत्रीय निदेशक (दिल्ली क्षेत्र) की शिकायत के आधार पर 10वीं कक्षा के गणित और 12वीं कक्षा के अर्थशास्त्र के प्रश्नपत्र लीक का मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने कहा कि मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच के लिए एक विशेष जांच टीम (एसआईटी) गठित की गयी है।
उपाध्याय ने बताया कि प्रारंभिक जांच में यह तथ्य सामने आया है कि दोनों विषयों के प्रश्नपत्र परीक्षा के एक दिन पहले व्हाट््सएप पर उपलब्ध थे और छात्रों एवं शिक्षकों ने उनका आदान-प्रदान किया।
उन्होंने कहा कि एसआईटी का पहला लक्ष्य पेपर से संबंधित मैसेज की कड़ियां जुटाना है जबकि दूसरा लक्ष्य यह पता लगाना होगा कि यह कैसे प्रसारित हुआ। इसके बाद उन लोगों का पता लगाया जायेगा जिन्हें प्रश्नपत्र लीक से फायदा पहुंचा। उन्होंने कहा, हमने फिलहाल किसी की गिरफ्तारी नहीं की है। हम सीबीएसई से परीक्षा प्रक्रिया की विस्तृत जानकारी ले रहे हैं और आरोपियों का पता लगाने का प्रयास कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*