Sunday , 27 May 2018
Breaking News
Home » India » अयोध्या : श्री श्री की पहल फेल?

अयोध्या : श्री श्री की पहल फेल?

नदवी एआईएमपीएलबी से बर्खास्त

नई दिल्ली/हैदराबाद। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए सुलह का फॉर्म्युला देने वाले मौलाना सैयद सलमान हुसैनी नदवी को ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) ने निकाल दिया है। मौलाना नदवी ने कुछ दिन पहले आध्यात्मिक गुरू श्री श्री रवि शंकर के साथ बेंगुलुरू में बैठक के बाद अयोध्या विवाद सुलझाने के लिए फॉर्म्युला दिया था। उनके सुझावों से एआईएमपीएलबी नाराज था और उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई के लिए एक 4 सदस्यीय समिति का गठन किया था। एआईएमपीएलबी ने शुक्रवार को ही हैदराबाद में अपनी बोर्ड मीटिंग में नदवी के फॉर्म्युले को सिरे से खारिज कर दिया था। एआईएमपीएलबी के सदस्य कासिम इलयास ने मौलाना नदवी को निकाले जाने की जानकारी देते हुए रविवार को कहा, समिति ने ऐलान किया कि एआईएमपीएलबी अपने पुराने रूख पर कायम रहेगा कि मस्जिद को न तो गिफ्ट किया जा सकता है, न बेचा जा सकता है और न शिफ्ट किया जा सकता है। क्योंकि सलमान नदवी इस एकमत रूख के खिलाफ गए, इसलिए उनको बोर्ड से निकाला जाता है।
एआईएमपीएलबी की कार्रवाई से पहले मौलाना नदवी ने कहा था कि वह अयोध्या विवाद के निपटारे के लिए सुलह की कोशिशों में लगे रहेंगे। उन्होंने कहा कि श्री श्री ने 20 फरवरी को अयोध्या में दोनों पक्षों की मीटिंग का अनुरोध किया है। बता दें कि मौलाना नदवी ने विवादित स्थल पर मंदिर और किसी और जगह मस्जिद बनाने को लेकर 3 सुझाव दिए थे, जिन्हें ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड और बाबरी मस्जिद से जुड़े दूसरे पक्षकारों ने खारिज कर दिया।
अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में 14 मार्च को अगली सुनवाई होने वाली है। कोर्ट से बाहर आपसी बातचीत के जरिए विवाद को सुलझाने की कोशिश के तहत बेंगलुरू में श्री श्री रविशंकर और मौलाना नदवी समेत हिंदू-मुस्लिम समुदाय से जुड़े लोगों के बीच बातचीत में 3 सुझाव सामने आए थे। पहला सुझाव था कि अभी जहां रामलला की प्रतिमा है, वहीं पर मंदिर का निर्माण हो। मुस्लिम विवादित स्थल पर अपना दावा छोड़ देंगे लेकिन किसी अन्य धार्मिक स्थल पर हिंदू अपना दावा नहीं ठोकेंगे। मस्जिद कहीं और बनेगी। सुलह फॉर्म्युले में अयोध्या-गोरखपुर हाइवे पर बहादुर शाह जफर के नाम से एक इंटरनैशनल इस्लामिक यूनिवर्सिटी (शेष पेज 8 पर)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*