Thursday , 21 June 2018
Breaking News
Home » Hot on The Web » ‘यहां सीधा रूपया की है सरकार’

‘यहां सीधा रूपया की है सरकार’

कर्नाटक में बोले मोदी

बैंगलुरू। कर्नाटक में विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा और कांग्रेस में जुबानी जंग जारी है। मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कर्नाटक पहुंचे। उन्होंने दावणगेरे में एक किसान रैली को संबोधित किया। इस दौरान प्रधानमंत्री ने राज्य के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया और कांग्रेस पर निशाना साधा। प्रधानमंत्री ने कहा, कर्नाटक में सिद्धारमैया की सरकार नहीं, बल्कि सीधा रूपया की सरकार चल रही है।
भाजपा ने कर्नाटक में बीएस येदियुरप्पा को सीएम उम्मीदवार बनाया है। मंगलवार को उनके 75वें जन्मदिन पर यह किसान रैली आयोजित की गई। राज्य में अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव होने हैं। भाजपा के चुनाव प्रचार के लिए प्रधानमंत्री मोदी का यह तीसरा कर्नाटक दौरा था।
सिद्धारमैया पर हमला बोलते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, राज्य में सीधा रूपया की सरकार है। हमें इसे एक मिनट के लिए भी बने नहीं रहने देना चाहिए। मोदी ने कहा कि जनता को इसका आभास हो गया है। अब सिद्धारमैया सरकार के दिन पूरे होने वाले हैं।
बनाई पटेल की ‘‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’’
प्रधानमंत्री मोदी ने अपने भाषण की शुरूआत कन्नड में की। उन्होंने कहा, जब मैं गुजरात में सीएम था, तो सरदार पटेल की प्रतिमा बनाने का संकल्प किया। पटेल किसानों के लिए सबसे ज्यादा आंदोलन करने वाले नेता थे। पटेल की प्रतिमा यानी ‘‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’’ की ऊंचाई अमेरिका के ‘‘स्टैचू ऑफ लिबर्टी’’ से भी दोगुनी है।
येदियुरप्पा के जन्मदिन पर शुरू किया अभियान
प्रधानमंत्री ने कहा, येदियुरप्पा के जन्मदिन के मौके पर एक अभियान भी शुरू किया गया है। इसके तहत मुट्ठीभर चावल एक नया कर्नाटक की रचना करेगा। सभी किसान इस अभियान में सहयोग करें। राज्य में जल्द बदलाव आएगा। उन्होंने कहा, इस कर्नाटक की सरकार का जाना तय है। यह अपने पापों के भार से इस स्थिति में पहुंची है। यह राज्य सरकार कांग्रेस को भी बचा नहीं पाएगी।
कर्नाटक को चाहिए भ्रष्ट सरकार से आजादी
सिद्धारमैया सरकार पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, कर्नाटक को इस भ्रष्टाचार की व्यवस्था से आजादी चाहिए। यहां जब तक 10 प्रतिशत का मामला नहीं होता तब तक काम नहीं बनता है। वहीं राज्य सरकार को भारत सरकार ने खाद्यान्न खरीदने के लिए पैसे दिए। अभी भी 50-55 करोड़ रूपया वैसे ही सरकारी खजाने में बिना खर्च किए बचा हुआ है। संवेदनशील सरकार होती तो ऐसा नहीं होता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*