Tuesday , 21 November 2017
Breaking News
Home » Hot on The Web » इस बाजार में 1200 रू. में बिकता है 2 हजार का नोट

इस बाजार में 1200 रू. में बिकता है 2 हजार का नोट

नई दिल्ली। देश में 8 नवंबर को नोटबंदी का फैसला लागू होने के बाद 500 और 2000 रूपये के नए नोट बाजार में लाए गए। लेकिन इसके कुछ वक्त बाद ही देश के अलग-अलग हिस्सों से 500 और 2 हजार के नकली नोटों की खेप पकड़ी जाने लगी। नोटबंदी के बाद ये ये सिलसिला बदस्तूर जारी है। बुधवार को ही दिल्ली में 6 लाख रूपये के नकली नोट पकड़े गए हैं। आगरा में बांग्लादेशी महिलाएं नकली नोट की सप्लाई करती हुई पकड़ी जा चुकी हैं। हैरान करने वाली बात ये है कि जितने भी लोग नकली नोटों संग पकड़े गए हैं उनके पास ये नकली नोट पश्चिम बंगाल के मालदा से आए हैं। मालदा नकली नोटों का हब बन चुका है। नेशनल इंवेस्टीगेशन एजेंसी भी अपनी जांच में इस बात को मान चुकी है। अब ये बताने की जरूरत नहीं है कि मालदा में नकली नोट की सप्लाई बांग्लादेश के रास्ते हो रही है।
नकली नोट की सप्लाई मालदा से ही क्यों
बेहतर रेल और सड़कों की कनेक्टिविटी से लैस, बांग्लादेश बॉर्डर से नजदीकी इन सभी चीजों ने मालदा को एफआईसीएन (फेक इंडिया करंसी नोट्स) कैपिटल में तब्दील कर दिया है। सूत्रों की मानें तो वहीं बॉर्डर के दूसरी तरफ नवाबगंज है, जहां नकली नोट छापने का काम होता है। मालदा रेल के जरिए सीधे दिल्ली, दक्षिणी राज्य, बिहार और उत्तरप्रदेश से जुड़ा हुआ है। वहीं देश के और इलाकों तक भी पहुंचने के लिए सड़क या रेल से 30 मिनट का वक्त लगता है। मालदा से गंगा पार कर झारखंड भी पहुंचा जा सकता है।
बांग्लादेश से इस तरह से आते हैं नकली नोट
बांग्लादेश बॉर्डर से सटा एक हिन्दुस्तानी गांव है मोहब्बतपुर। गांव वाले बताते हैं कि दिन में एक बार ही बीएसएफ यहां गश्त करने आती है। सूत्रों की मानें तो शाम बॉर्डर के उस पार से नोटों के बंडल फेंके जाते हैं। ये बंडल 50 हजार रूपये से लेकर एक लाख रूपये तक के होते हैं। गांव के छोटे-छोटे बच्चे (कुली) उन बंडल को उठा लेते हैं।
इस काम में बच्चों का इस्तेमाल इसलिए किया जाता है ताकि पकड़े जाने पर उनके खिलाफ जुवेनाइल एक्ट के तहत कम से कम सजा होती है। इन बंडलों को लेकर एक व्यक्ति करीब एक किमी दूर तक चलता है। माहौल के हिसाब से ये जगह बदलती रहती है। वहां ये बंडल सौंप दिए जाते हैं। यहां से ये पैकेट फरक्का पहुंचा दिए जाते हैं। रेलवे स्टेशन पास होने के चलते दिल्ली, दक्षिण भारत, बिहार और उत्तरप्रदेश में ये नोट आसानी से खप जाते हैं। ले जाने में भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है।
एक हजार रू. में मिलता है 2 हजार का नोट
कुछ जानकारों की मानें तो नकली नोट में सबसे ज्यादा डीलिंग 2 हजार रूपये के नोट में होती है। कुछ समय पहले तक 2 हजार रूपये का नोट आसानी से एक हजार रूपये में मिल रहा था। लेकिन जानकारों का कहना है कि डिमांड होने के चलते नकली नोट के रेट भी बढ़ गए हैं। अब 2 हजार रूपये का नोट 12 सौ रू. से कम में नहीं मिल रहा है।

वहीं 500 रूपये का नोट 250 से 300 रूपये में मिल रहा है। 100 रूपये के नोट की बात करें तो इसकी डिमांड कम है। लेकिन ऐसा भी नहीं है कि ये नोट मिलता नहीं है। 100 रूपये के एक नोट की कीमत मालदा के बाजार में 45 रूपये है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*