Thursday , 18 January 2018
Breaking News
Home » Business » मकान के लिए मिलेंगे 25 लाख

मकान के लिए मिलेंगे 25 लाख

केंद्र ने किया एचबीए नियमावली में बदलाव

HB rules changeनई दिल्ली। केंद्र सरकार ने अपने कर्मचारियों के लिए मकान बनाने की अग्रिम ऋण राशि 34 महीनों के बेसिक वेतन के बराबर या अधिकतम 25 लाख रूपए कर दी है।
केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास मंत्रालय ने आवास निर्माण अग्रिम नियमावली (एचबीए) 2017 में बदलाव करते हुए गुरूवार को यहां जारी एक परिपत्र में यह जानकारी दी। मकान बनाने या खरीदने के लिए आवास निर्माण अग्रिम (एचबीए) राशि किसी भी कर्मचारी के 34 माह के बेसिक वेतन के बराबर होगी हालांकि इसकी अधिकतम सीमा 25 लाख रूपए तय की गयी है। पहले यह राशि 24 माह के बेसिक वेतन के बराबर और अधिकतम साढ़े 7 लाख रूपए थी।
मंत्रालय ने कहा है कि एचबीए नियमावली को सातवें वेतन आयोग के अनुरूप संशोधित किया गया है। कर्मचारी अब आवास बनाने या खरीदने के लिए 25 लाख रूपए तक का ऋण ले सकते है। इसके अलावा वे पहले से मौजूद मकान के विस्तार के लिए अधिकतम 10 लाख रूपए तक ऋण ले सकते हैं। पहले यह राशि एक लाख 80 हजार रूपए थी। दोनों मदों में ऋण की राशि कर्मचारी की बाकी बची सेवा अवधि पर भी निर्भर करेगी।
नए प्रावधानों के अनुसार केंद्र सरकार का कर्मचारी अब एक करोड़ रूपए की कीमत तक के मकान का स्वामी हो सकता है जबकि पहले यह सीमा 30 लाख रूपए थी। पति और पत्नी एचबीए की सुविधा का लाभ संयुक्त रूप से या दोनों अलग-अलग उठा सकते हैं। पहले यह सुविधा दोनों में से केवल एक को उपलब्ध थी। एचबीए से वित्तीय संस्थानों या बैंक से लिया गया आवास ऋण भी चुकाया जा सकता है।
कर्मचारी को एचबीए पर साढ़े 8 प्रतिशत की दर से साधारण ब्याज देना होगा जबकि पहले यह दर साढ़े 9 प्रतिशत थी। कोई भी कर्मचारी एचबीए की सुविधा अपने सेवाकाल में केवल एक बार प्राप्त कर सकता है। एचबीए की वसूली प्रक्रिया में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

One comment

  1. mai central paramilitary force ka member hu.meri 10 sal service ho gayi aur 26 sal baki hai.kya muzhe is scheme ka benefit mil sakta hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*