Monday , 16 January 2017
Top Headlines:
Home » India » ‘रेवड़ी के तौर पर इस्तेमाल होता रहा रेल मंत्रालय’

‘रेवड़ी के तौर पर इस्तेमाल होता रहा रेल मंत्रालय’

modiगांधीनगर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को कहा कि उनकी सरकार देश भर में रेलवे स्टेशनों के ऊपर होटलों और मॉल आदि का निर्माण करने की महत्वकांक्षी योजना तथा इसके तकनीकी उन्नयन और विकास के लिए काम कर रही है जबकि पूर्व में गठबंधन सरकारों के दौरान रेलवे मंत्रालय का ”मलाईदार” विभाग के तौर पर इस्तेमाल किया गया था।
मोदी ने सोमवार को यहां गांधीनगर के नये रेलवे स्टेशन भवन के शिलान्यास के बाद अपने संबोधन में कहा कि रेलवे आम लोगों से जुड़ी संस्था है तथा गरीब से गरीब लोगों को सहारा देती है लेकिन इसे ही दुर्भाग्य से इसके नसीब पर छोड़ दिया गया था। खास कर उस दौर में जब दिल्ली में मिली जुली सरकारें रहती थी तो इसे समर्थन के एवज में साथी दलों को रेवड़ी के तौर पर दे दिया जाता था। पूर्व रेल मंत्री लालू यादव का नाम लिये बिना उन्होंने कहा कि ऐसे रेल मंत्रालय पाने वाले दल फिर इसका क्या करते थे यह बताने की जरूरत नहीं।
उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने पिछले ढाई साल में रेलवे का बजट दोगुना कर दिया है। पटरी के दोहरीकरण, आमान परिवर्तन और विद्युतीकरण आदि के काम में तेजी लाई गयी है। रेलवे में डीजल और कोयला के इस्तेमाल को कम से कम किया जा रहा है। इसके चलते स्वतंत्रता के बाद सबसे अधिक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश रेलवे में आया है। सरकार रेलवे के जरिये माल ढुलाई के प्रतिशत को बढ़ाने के लिए भी काम कर रही है ताकि चीजें सस्ते ढंग से एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचे। रेलवे के जाल का बंदरगाहों, खदानों और दूर दराज के इलाकों आदि तक विस्तार किया जा रहा है। इसी कड़ी में रेलवे ने नमक की ढुलाई के लिए हल्के कंटेनर की डिजायन तैयार की है।
उन्होंने कहा कि रेलवे स्टेशन आर्थिक दृष्टि से शहरों के मुख्य इलाकों यानी हार्ट ऑफ द सिटी में होते हैं जिनके ऊपर के आसमान का इस्तेमाल पटरी के ऊपर होटल, मॉल आदि का निर्माण कर रेलवे की आय बढ़ाई जा सकती है और इसके लिए खासा निवेश आकर्षित किया जा सकता है। गुजरात में पीपीपी के जरिये यह पहला सफल प्रयोग हो रहा (शेष पेज 8 पर)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*