5 थानों में कफ्र्यू : बाहर निकलने वालों पर सख्ती

0
747

डोर टू डोर हो रही दूध और राशन की सप्लाई : शहर के 3 व जिले के 2 थानाक्षेत्रों में कफ्र्यू
उदयपुर. नगर संवाददाता & कोरोना संक्रमण का लगातार प्रभाव बढऩे के साथ ही पुलिस ने शहर के कफ्र्यू ग्रस्त क्षेत्रों में सख्ती बढ़ा दी है। इन क्षेत्रों में जो भी बाहर निकल रहा है उसके खिलाफ कार्यवाही की जा रही है। शहर के प्रतापनगर और हिरणमगरी क्षेत्र में लगा रखे कफ्र्यू में कुछ युवक बाहर निकले थे, जिन्हें खदेड़ा गया। इधर जिला प्रशासन की ओर से डोर टू डोर किराणा का सामान और दूध की सप्लाई की जा रही है, वहीं जिले के पांच थाने कफ्र्यू से प्रभावित है।
जानकारी के अनुसार मंगलवार को देबारी और गायरिवास क्षेत्र में कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद से ही जिला प्रशासन के निर्देश पर इन क्षेत्रों में सख्ती बरतते हुए कफ्र्यू लगा दिया गया। इन क्षेत्रों में रात्रि को ही घोषणा करवा दी थी कि कोई भी बाहर नहीं निकलेगा इसके साथ ही विभिन्न गलियों को पूरी तरह से बेरिकेट्स और बांस की बल्लियां लगाकर चौक कर दी गई, ताकी किसी तरह का कोई मूवमेंट ना हो, हालांकि रात्रि को ही इस हलचल का पता क्षेत्रवासियों को पता चल गई थी, लेकिन फिर भी बुधवार को कुछ युवक घर से बाहर निकले और इधर-उधर तफरी करने लगे। यह देखकर पुलिस ने सख्त कार्यवाही की और जहां-जहां पर भी युवक बाहर निकले थे, उनके पीछे पुलिस कर्मी ल_ लेकर भागे, जिससे युवक भाग गए। इस दौरान कुछ युवकों को पुलिस के बल प्रयोग का सामना भी करना पड़ा था। इस दौरान पुलिस ने चेतावनी देकर इन युवकों को छोड़ दिया और अगली बार बाहर आने पर कठोर कार्यवाही की चेतावनी दी। सुबह से इन क्षेत्रों में पुलिस-प्रशासन की ओर से किराणे और दूध का सामान पहुँचा। प्रत्येक गली मोहल्लों में जाकर दूध सप्लाई करने वाले और किराणा का सामान रखने वालों ने आवाज लगाई, जिससे एक-एक कर लोग बाहर निकले और निर्धारित दूरी के रखते हुए सामान लिया। इधर जिले के पांच थाना क्षेत्रों में जिला कलेक्टर के निर्देश पर कफ्र्यू लगाया गया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उदयपुर शहर के सुखेर, प्रतापनगर, हिरणमगरी के साथ जिले के सलूम्बर और मावली थाना क्षेत्रों कफ्र्यू लगा रखा है और लोगों के बाहर निकलने पर रोक लगा रखी है।
50 लोगों की संपर्क में आया पति
सुबह से ही चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से बुधवार सुबह से ही डोर टू डोर स्क्रीनिंग का काम शुरू कर दिया। बताया गया कि सक्रमित महिला का पति सवीना सब्जी मंडी में दुकान मालिक व अन्य व्यापारियों सहित 50 लोगों के संपर्क में आया था। जिन्हें तलाशा जा रहा है, सक्रमित एमबी अस्पताल में दो नर्सों व एक वार्ड बाय के संपर्क में आई।
गायरियावास व देबारी में 12 मई तक लगाया कफ्र्यू
जिला कलेक्टर आनंदी ने गारियावास व देबारी में कोरोना वायरस से संक्रमित मिलने के बाद कफ्र्यू लगा दिया है। कलक्टर ने जारी आदेश में बताया कि गारियावास में 1 महिला एवं झरनों की सराय देबारी में 1 पुरूष के कोरोना वायरस से संक्रमित पाये जाने पर निषेधाज्ञा लगाई है। इसके तहत हिरणमगरी थाना क्षेत्र के गारियावास में कफ्र्यू लगने से गारियावास के साथ-साथ नीम का चौक, पीपली चौक, सबसिटी सेंटर का गारियावास तरफ वाला मार्ग आदि क्षेत्र प्रभावित रहेंगे। इसी प्रकार प्रतापनगर थाना क्षेत्र में झरनों की सराय देबारी में गांव पूरा प्रभावित रहेगा। यह आदेश 12 मई की मध्यरात्रि तक प्रभावी रहेंगे।बंद नहीं होगी सब्जी मण्डी, आज से यथावत चलेगा थोक व्यापारबुधवार को एक दिन के लिए प्रशासन द्वारा बंद करवाने पर फैलाई अफवाह थैले वालों ने 15 दिन मण्डी बंद रहने
का कहकर महंगी कर दी सब्जियांउदयपुर. नगर संवाददाता & शहर की फल और सब्जी मण्डी में थोक व्यवसाय गुरूवार को यथावत रूप से चलेगा। जिला प्रशासन या पुलिस ने किसी तरह से व्यवसाय पर प्रतिबंध नहीं लगाया है। केवल बुधवार को व्यवसाय इसलिए बंद रहा था कि मण्डी में ही एक दुकान पर काम करने वाले कर्मचारी की पत्नी कोरोना संक्रमित पाई गई थी, लेकिन दिन भर दुकानों को सेनेटाईज किया गया, ताकी संक्रमण ना फैल सकें। शहर में ये जो सब्जी बेचने वाले मण्डी बंद होने की अफवाह उड़ा रहे है वह पूर्णतया गलत है।
मण्डी में दुकान नम्बर दो पर काम करने एक कर्मचारी की परिजन कोरोना संक्रमित पाई गई थी, इस पर जिला प्रशासन और पुलिस ने त्वरित कार्यवाही करते हुए मंगलवार रात्रि से ही कार्यवाही शुरू कर दी थी और मण्डी में उन दुकानों को सेनेटाईज किया गया जिस पर कोरोना संक्रमित महिला के परिजन काम करता था या जाता था। उपनिदेशक मण्डी संजीव पण्ड्या ने बताया कि बुधवार को इसी कारण मण्डी बंद रही थी और दिन भर दुकानों को सेनेटाईज करने और कोरोना संक्रमित के परिजन के सम्पर्क में आने वालों की सूची बनाई गई थी और सभी को क्यूरेनटाईन किया गया था। इसी कारण मण्डी को बंद रखा गया था। इधर शहर में विभिन्न क्षेत्रों में सब्जी और फल बेचने वालों ने यह अफवाह फैला दी कि मण्डी में कोरोना का संक्रमण फैल गया है इसी कारण अब मण्डी 15 दिनों तक बंद रहेगी और इसके साथ ही सब्जियों के दाम भी बढ़ा दिए। शाम होते-होते लोगों ने सब्जियों का स्टॉक करना शुरू कर दिया, जिससे दो से तीन गुना दाम हो गए।
मण्डी के उपनिदेशक संजीव पण्ड्या ने बताया कि केवल बुधवार को ही मण्डी बंद थी और गुरूवार से मण्डी पुन: सुचारू रूप से काम करेगी। जिसमें निर्धारित समय पर थोक व्यापार होगा और इसके मण्डी के सभी दुकानदारों को उचित दिशा-निर्देश दिए गए र्हे। मण्डी को जिला प्रशासन ने बंद नहीं किया है। मण्डी में दोपहर बाद बाहर से सब्जियां आई थी।
इसके साथ ही जिस दुकान पर संक्रमित महिला का परिजन काम करता था उस दुकान और उसकी एक दुकान आगे की और एक पीछे की दुकान को आगामी आदेश तक बंद कर दिया है और आस-पास की शेष अन्य दुकानों को भी रोस्टर सिस्टम में बांट दिया है।रोटेशन के तहत खुलेंगी दुकानेंउदयपुर। सब सिटी सेंटर पर कोरोना पॉजिटिव महिला के पति के मण्डी में ही दुकान पर काम करने के बाद मंडी में व्यवस्थाओं में बदलाव किया गया। संक्रमित महिला का पति जिस दुकान पर काम करता था उसके एक पहले की और एक बाद की अनिश्चित समय के बंद कर दी है। शेष आगे की 14 दुकानों की व्यवस्था प्रतिसप्ताह रोटेशन के आधार पर की गई है।
मंडी सचिव संजीव पण्ड्या ने बताया कि दुकान संख्या 2 फर्म मैसर्स श्रीराम आलू भण्डार का कार्यरत मुनीम के परिजन कोरोना संक्रमित मिलने से जिला प्रशासन के निर्देशानुसार दुकान संख्या 1 से 3 तक अग्रिम आदेश तक बंद रहेगी। जबकि शेष दुकान संख्या 4 से 14 तक प्रति सप्ताह रोटेशन के अनुसार चलेगी। जिसमें एक दिन कृषकों के लिए नीलामी चबूतरें पर और एक दिन दुकान के लिए आवंटित जगह पर चलेगी। मण्डी सचिव द्वारा सभी व्यापारियों को निर्देश दिए गए है कि निर्धारित व्यवसाय स्थल के अलावा अन्य जगह व्यवसाय करने की अनुमति नहीं होगी। साथ ही व्यापारियों को अपनी फर्म या दुकान पर कार्य करने वाले कर्मचारी व हम्मालों के परिवार में किसी के बीमार होने की तुरंत सूचना देनी होगी और उस व्यक्ति को कार्यस्थल आने पर पूर्णत: प्रतिबंध रहेगा।

कांस्टेबल की पत्नी सहित 8 नेगेटिव, कईयों की सांसें अटकी
उदयपुर. नगर संवाददाता & जयपुर में कोरोना संक्रमित पाया गया आरएसी कांस्टेबल के क्लोज कांटेक्ट में केवल उसका परिवार ही नहीं बल्कि उसके नाना-नानी मामा-मामी, नाई, तीन पुलिसकर्मी और तीन चाय वालों सहित 50 लोगों के क्लोज कांटेक्ट में था। इनमें से आठ लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है और शेष की सांसे अटकी हुई है। कांस्टेबल अपनी गर्भवती पत्नी की जांचे करवाने मधुबन स्थित एक डायग्नोस्टिक सेन्टर पर लेकर गया था जहां व 4 डॉक्टरों के भी संपर्क में आया था जिन्हें भी क्वारेंटाइन किया गया। जानकारी के अनुसार आरएसी का एक कांस्टेबल जो जयपुर में कार्यरत था, वह कोरेाना संक्रमित पाया गया था। जांच में सामने आया कि वह 1 अप्रैल से 18 अप्रैल तक सलूम्बर चौकी पर तैनात था। 19 अप्रैल से वह अपनी पत्नी व अन्य परिजनों के साथ में रहा था। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से क्लोज कांटेक्ट की लिस्ट निकाली तो चिकित्सा विभाग भी हैरान रह गए। इसके क्लोज कांटेक्ट में 50 लोगों सम्पर्क में आए है। कांस्टेबल के क्लोज कांटेक्ट में इसकी पत्नी, साला-साली, मकान मालिक-मालकिन, इसके दो पुत्र, भाई, मां-बाप, भाई, भतीजा, भतीजा, सास-ससुर, नाना-नानी, मामा-मामी, मेमेरा भाई-बहन, सलूम्बर चौकी पर तैनात तीन कांस्टैबल, सलूम्बर में तीन चाय वाले जो चौकी पर चाय लेकर आते थे और जयपुर में साथ गया ड्राईवर भी शामिल है। चिकित्सा विभाग ने इसमें सलूम्बर थाने के स्टॉफ को भी संदिग्ध माना है क्योंकि यह कांस्टेबल सलूम्बर थाने में भी गया था। सभी सम्पर्कों में से पत्नी सहित देबारी में रहने वाले 8 लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है। शेष 50 लोगोंं की सांस में सांस अटकी पड़ी है कि उनका क्या होगा। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ने इन सभी को होम क्यूरेनटाईन कर दिया है और किसी को भी बाहर निकलने से इंकार कर दिया। इसके साथ ही सलूम्बर चौकी पर तैनात तीन कांस्टेबलों को जनजाति आश्रम में भेज दिया है। वहीं चाय वालों पर भी विशेष नजर रखी जा रही है। कांस्टेबल के क्लोज कांटेक्ट में इतने लोग आने पर चिकित्सा विभाग के होंश उड़ गए है और संबंधित अधिकारियों को इन सभी पर विशेष रूप से नजर रखने के आदेश जारी किए है।
कोरोना संदिग्ध को किया उदयपुर रैफर
मावली में चारणीया तलाई से एक 70 वर्षीय महिला को कोरोना संदिग्ध मानते हुए उदयपुर रैफर किया गया। गौरतलब है कि पिछले दिनों बस्सी सलूंबर निवासी जवान माधो सिंह कोरोना पॉजिटिव पाया गया था । वह देबारी स्थित जिस मकान में रहता था उस मकान मालिक अमर सिंह का पुश्तैनी मकान ग्राम चाराणिया तलाई पीपरोली ग्राम पंचायत नरड़ा तहसील मावली में है। पिछले दिनों अमर सिंह के ताऊ जी का निधन होने पर अमर सिंह सपरिवार गांव आया था एवं उसकी मां दल्लू कुंवर गांव में ही मृतक के घर घर रह रही थी। किराएदार की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने पर अमर सिंह के पूरे परिवार को जांच के लिए ले जाया गया और उसकी मां को भी गांव से जांच के लिए रेफर किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here