सीमलवाड़ा के युवक की कुवैत में मौत

0
608

गांव में सोशल डिस्टेंसिंग रखते हुए निकाली पुतले की अंतिम यात्रा
भाई ने किए सांकेतिक लोकाचार, फूट-फूट कर रोए परिजन
सीमलवाड़ा (प्रात:काल संवाददाता)।
क्षेत्र के शिमला निवासी एक व्यक्ति की कुवैत में कोरोना टेस्ट होने बाद मौत हो गई। शव गांव तक नहीं पहुंच सका, आखिरकार परिजनों ने पुतला बना कर शवयात्रा निकाली तथा सांकेतिक रूप से सभी लोकाचार किए। इस दौरान वे फूट-फूट कर रो पड़े। क्षेत्र में पहली बार इस तरह की अंतिम यात्रा निकाले जाने के खूब चर्चे रहे तथा जिसने भी खबर सुनी, उसकी आंखें नम हो आईं। अंतिम यात्रा में लोकडाउनकी बंदिशें के चलते बहुत कम लोग ही शामिल हो पाए।

कुवैत में रोजगार के लिए गए शिमला निवासी दिलीप पुत्र पदम कलाल की कोरोना पॉजिटिव होने के चलते उपचार के दौरान कुवैत में मंगलवार को मृत्यु हो गई थी। उनका कुवैत में ही अंतिम संस्कार कर दिया गया।
परिजनों ने बुधवार को मृतक दिलीप कलाल का पुतला बनाकर घर में सामाजिक रीति रिवाज के अनुसार कुछ समय रखा। इसे बाद शव यात्रा के रूप में पुतले को दाह संस्कार के लिए विधि विधान के साथ इस तरह ले जाया गया मानों वास्तव में कोई शवयात्रा निकल रही हो। मृतक के छोटे भाई राजेश कलाल ने बताया कि पुतले के पास उनके भाई की तस्वीर भी रखी गई।

श्मशान घाट पर विधि-विधान के साथ पुतले को नहा लाने के बाद जमाई हुई लकडिय़ों पर रखते हुए पुतले की प्रदक्षिणा की गई व नम आंखों के साथ मुखाग्नि दी गई। इस शवयात्रा में बहुत कम लोग सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए शामिल हुए। व्यक्ति की मृत्यु को लेकर परिवार पर दुख के पहाड़ टूट पड़े। मृतक दिलीप कलाल विगत कई वर्षों से कुवैत में कार्यरत था, उनकी कुवैत में होटल भी थी। पिछले 14 दिनों से वह कुवैत के अमीर हॉस्पिटल में भर्ती था जहां कोरोना टेस्ट हुआ था। हॉस्पिटल में उपचार के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here