शहर में बढ़े सरकारी किट प्रेमी, ग्रामीण में जैसे के तैसे पड़े

0
929

शहर मेें 13 हजार किट और ग्रामीण मेें 16 हजार ग्रामीण अंचल में बटे

– शहर में 7 दिन के अंतराल में बांटे 3242 किट
उदयपुर. नगर संवाददाता & लॉक डाउन में जिला प्रशासन की ओर से बांटे जा रहे सरकारी राशन के किट की शहर में लगातार मांग बढ़ती ही जा रही है। शहर में अब तक 13 हजार सरकारी
किट बांटे जा चुके है। वही ग्रामीण क्षेत्र में भेजे गए 16 हजार 800 किट का में से भी अधिकांश जैसे के तैसे ही पड़े है। ग्रामीण क्षेत्र में लोग सरकारी किट लेने के इच्छुक नहीं है। ग्रामीण क्षेत्र में किट नहीं लेने का कारण है कि उनके पास गेहूँ ही गेहूँ पड़ा हुआ है।
जिला रसद अधिकारी ज्योति ककवानी ने बताया कि अब तक कुल 29 हजार 858 मुख्यमंत्री किट का वितरण किया जा चुका है। इसमें से 13 हजार 8 किट शहरी क्षेत्र में तथा 16 हजार 750 किट ग्रामीण क्षेत्रों में बांटे गए हैं।
जिले के दूरस्थ कोटड़ा में 2500 मुख्यमंत्री किट का वितरण किया गया है। कंट्रोल रूम में 6 लाईनों वाले टेलीफोन परजो सूचना मिल रही है उसी आधार पर किट बांटे जा रहे है। फोन पर आने वाले नामों की सूची तैयार कर उसका वेरिफिकेशन करते हुए प्रतिदिन 11 टीमों द्वारा जरूरतमंदों तक यह किट पहुंचाया जा रहा है। जिला प्रशासन द्वारा जन संबल किट भी तैयार किए गए हैं। वर्तमान में जिले में विधायक मद से जरूरतमंदों को खाद्य सामग्री वितरण करने के लिए स्वीकृत राशि से उपखण्ड अधिकारियों को 6 हजार 325 जन संबल किट उपलब्ध कराए जा चुके है वहीं 6 हजार 450 किट जल्द ही उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके साथ ही दूरस्थ कोटड़ा क्षेत्र में 300 जन संबल किट का वितरण किया गया है।
जानकारी के अनुसार 7 अप्रैल को ही रसद विभाग से आंकड़ा मिला था, जिसमें शहर के 70 वार्ड में 9766 किट बांटे जा चुके और मंगलवार को मिले आंकड़े के अनुसार शहर के 70 वार्डांे में 13 हजार 8 किट बांटे जा चुके है। 7 अप्रैल से 14 अप्रैल तक मात्र सात दिन मेें रसद विभाग ने शहरी क्षेत्र में 3242 किट अतिरिक्त बांटे जा चुके है। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों मे किट की डिमांड नही के बराबर है। कारण है कि गांवो में गेहूँ निकालने का सीजन चल रहा है। ऐसे ग्रामीण क्षेत्रों में किट की डिमांड ना के बराबर है। इसके बाद भी जिला प्रशासन पूरी तरह से तैयार है।
अब खाद्य सुरक्षा में चयनित परिवार को मिलेगी मूंगदाल
उदयपुर। जिले में खाद्य सुरक्षा योजना में चयनित परिवार को अब राशन के गेहूँ के साथ-साथ मंूगदाल भी दी जाएगी। इसके लिए राज्य सरकार ने सभी राशन की दुकानदारों को दिशा-निर्देश दिए है। वहीं बिना ओटीपी के राशन देने से भी इंकार किया है।
जानकारी के अनुसार जिले के सभी राशन डीलरों को अप्रैल माह के गेहँू को 15 अप्रैल से वितरित करना था, लेकिन रसद विभाग ने आदेश जारी कर सभी राशन डिलरों को दो-तीन बाद राशन वितरण करने के लिए कहा है। अधिकारियों ने बताया कि राज्य सरकार ने खाद्य सुरक्षा योजना में चयनित परिवारों को एक किलो मूंगदाल भी दी जाएगी। ऐसे मेें राशन डीलरेां के पास मूंगदाल पहुँचने के बाद ही राशन का गेहूँ और मंूगदाल को एक साथ ही बांटा जाए, ताकी उपभोक्ताओं केा दुबारा ना आना पड़े और कोरोना संक्रमण से बचा जा सकें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here