कोरोना : सामान की न हो कमी, आईजीआई की बड़ी तैयारी

0
835

नई दिल्ली (एजेंसी)। पूरा देश इस वक्त कोरोना वायरस के कहर से जूझ रहा है। लॉकडाउन के बाद भी लगातार नए पॉजिटिव केस सामने आते जा रहे हैं। लॉकडाउन की वजह से जरूरी सामान भी लोगों तक नहीं पहुंच पा रहा है। इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट ने ट्वीट कर भारत सरकार को भरोसा दिलाया है कि इस परिस्थिति में भी वो काम और तेजी से जारी रखेंगे ताकि देश के लोगों को किसी भी प्रकार की कमी न हो सके।
दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे प्रशासन की ओर से कहा गया कि आईजीआई कार्गो टर्मिनल पूरी तरह से भारत सरकार के साथ कदम से कदम मिला रहा है। उन्होंने कहा कि हम लोग जरूरी सामान निर्धारिक जगहों तक पहुंचाने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं। सबसे पहले हम उन वस्तुओं पर जोर दे रहे हैं जो स्वास्थ्य से जुड़ी हुई हैं जैसे कि दवाएं और भी ऐसी चीजें जो कोविड19 को रोकने के लिए उपयोग की जा रही हैं।

गौरतलब है कि आईजीआई एयरपोर्ट पर सामान्य दिनों में तैनात सीआईएसएफ, इमिग्रेशन और कस्टम विभाग के कर्मचारियों में से 50 फीसदी से अधिक स्टाफ को बारी-बारी से रेस्ट दिया गया है। इसमें कस्टम विभाग के तो 80 फीसदी से अधिक स्टाफ को रोटेशन वाइज रेस्ट दिया जा रहा है। जबकि इमिग्रेशन में तैनात उन तमाम अधिकारियों को रेस्ट पर भेजा गया है, जो रविवार को मलयेशिया जाने वाले आठ जमातियों को पकडऩे वाली टीम में शामिल थे।

एयरपोर्ट अधिकारियों ने बताया था कि हालांकि, अभी तक किसी भी स्टाफ में ऐसा कोई लक्षण दिखाई नहीं दिखा है, जिससे उनमें कोरोना संक्रमण होने की कोई बात हो। लेकिन सावधानी बरतते हुए संवेदनशील ड्यूटी पर लगे स्टाफ को रेस्ट पर भेजा जा रहा है। ताकि आने वाले समय में उन्हें कोई परेशानी ना हो। इसी तरह से सीआईएसएफ का जो स्टाफ तीनों टर्मिनल के एंट्री और एग्जिट गेटों के अलावा अंदर जांच के लिए लगाया जाता था, एयरपोर्ट बंद होने की वजह से अब वहां उनका कोई बहुत अधिक काम नहीं है।

इसलिए उस स्टाफ को बारी-बारी से रेस्ट दिया जा रहा है। हालांकि, एयरपोर्ट क्लोज होने की वजह से सीआईएसएफ की चौकसी में कहीं कोई कमी नहीं आई है। वह पहले की तरह ही एयरपोर्ट की रखवाली कर रही है। लेकिन जब स्पेशल फ्लाइट्स को छोड़कर सामान्य तमाम फ्लाइट्स बंद हैं तो ऐसे में अतिरिक्त स्टाफ को रेस्ट दिया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here