कोरोना से बचाव के लिए मदार

0
790

-उदयपुर डिपो पर 85 रेल डिब्बों में बना रहे आइसोलेशन केन्द्र
उदयपुर.
नगर संवाददाता & कोरोना वायरस से बचाव के लिए रेलवे अपने अजमेर वाले मदार और उदयपुर डिपो पर 85 रेल डिब्बों में मोफिफिकेशन करके उनको इलाज के लिए आइसोलेशन केन्द्र के रूप में तब्दील कर रहा है। अजमेर मंडल द्वारा कोविड.19 वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए किए जा रहे कई उपायों में एक यह भी शामिल है। मंडल रेल प्रबंधक नवीनकुमार परसुरामका सहित मंडल के अधिकारी तैयारियों की नियमित समीक्षा कर रहे हैं।

इसी कड़ी में मदार व उदयपुर डिपो में आइसोलेशन केंद्र बनाने के लिए 85 ट्रेन डिब्बों को रूपांतरित किया जा रहा है। इनमें 37 रेल डिब्बे उदयपुर में और शेष मदार डिपो पर आइसोलेशन केन्द्र बनाने का काम चल रहा है। रेलवे का मानना है कि रेल डिब्बों में आइसोलेशन केन्द्र बनाने के पीछे यह भी तर्क है कि यदि वह मरीज बाहर का हुआ तो उसे रेल के डिब्बे से लाने ले जाने की सुविधा भी जरूरत पडऩे पर दी जा सकेगी। इससे किसी एम्बुलैंस और अन्य चिकित्सालय में उससे कोई संक्रमण फैलने का डर भी नहीं रहेगा।

स्टाफ को प्रशिक्षण और सुरक्षा उपकरणों से किया लैस
रेलवे अस्पताल में 40 बेड कोरोना रोगियों के उपचार के लिए तैयार किए है। मेडिकल स्टॉफ को फेस प्रोक्शन शील्ड उपलब्ध कराई गई है। रोगियों से बात करने के लिए 2.वे माइक और मॉनिटरिंग के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाए हैं। मेडिकल स्टाफ के लिए पर्याप्त संख्या में निजी सुरक्षा उपकरणों पीपीई, वेंटिलेटर की उपलब्धता के मद्देनजर इनकी खरीद संबंधी जरूरतों को पूरा किया है।रेल परिसरों, कर्मचारियों

की कर रहे सुरक्षारेल कर्मचारियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने और उनके मनोबल को बढ़ाने के लिए सभी कार्यस्थलों पर व्यवस्थायें की गई है। अजमेर-फालना और उदयपुर-डेट खंड पर विशेष आपदा प्रबंधन गाड़ी के माध्यम से ड्यूटी आने वाले कर्मचारियों को मास्क और हैंड सैनिटाइजर उपलब्ध कराए जा रहे हैं। रेल कर्मचारी व उनके परिजन स्वयं के स्तर पर सैनिटाइजर और मास्क का उत्पादन कर रहे हैं। अब तक अजमेर मंडल द्वारा 6310 मास्क और 151 लीटर सैनिटाइजर का निर्माण किया गया है। सभी कार्य स्थलों पर साबुन, पानी और कपड़े धोने की सुविधाएं दी जा रही हैं। स्थानीय नवाचार के जरिए कपड़े धोने की ऐसी सुविधाएं प्रदान की गई हैं, जिनमें हाथों के इस्तेमाल की आवश्यकता नहीं होती है। डीजल शेड आबू रोड में यह सुविधा प्रदान की गई है। रेल परिसरों में सोडियम हाइपो क्लोराइड का लगातार छिड़काव किया जा रहा है। केंद्र सरकार के सभी कर्मचारियों को रेलवे अस्पताल पर अपने पहचान पत्र दिखाने पर स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। आरपीएफ व रेलकर्मियों की मदद से जरूरतमंदों को मुफ्त भोजन दिया जा रहा है। मंडल पर विभिन्न स्थानों पर जरूरतमंदों को 2000 से अधिक भोजन पैकेट वितरित किए जा चुके। कोरोना से चल रही इस जंग में कर्मचारी संगठन भी सहयोग कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here