Sunday , 30 April 2017
Top Headlines:
Home » Business » सर्विस चार्ज पर कन्फ्यूजन, पीएमओ दूर करेगा कन्फ्यूजन

सर्विस चार्ज पर कन्फ्यूजन, पीएमओ दूर करेगा कन्फ्यूजन

नई दिल्ली। सर्विस चार्ज के मामले में सफाई की मांग करते हुए उपभोक्ता मामलों के विभाग ने प्रधानमंत्री ऑफिस को अडवाइजरी भेजी है। इस से पहले उपभोक्ता मामलों के विभाग की ओर से इस साल की शुरूआत में सर्कुलर जारी किया दिया गया था जिसमें सर्विस टैक्स को स्वैच्छिक कर दिया गया था। यानी यह उपभोक्ता के ऊपर था कि वह मुहैया कराई गई सुविधाओं के अनुसार चाहे तो सर्विस टैक्स दे चाहे तो न दे। शुक्रवार को खाद्य और उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने कहा, सर्विस चार्ज जैसी कोई चीज नहीं है। अगर रेस्ट्रॉन्ट्स इसे चार्ज करते हैं तो यह गलत है। इस मामले में एक अडवाइजरी जारी की गई है जिसे पीएमओ को भी भेज दिया गया है।
उपभोक्ता मामलों का विभाग इस साल की शुरूआत में कह चुका है कि सर्विस चार्ज होटल बिल और रेस्ट्रॉन्ट बिल का हिस्सा ही होता है। विभाग ने कहा था कि यह कन्ज्यूमर पर (शेष पृष्ठ ८ पर)
निर्भर करता है कि वह सर्विस चार्ज दे या न दे। विभाग के इस निर्णय के कारण उपभोक्ताओं और होटल इंडस्ट्री में भ्रम की स्थिति बनी रही। इंडस्ट्री का कहना था कि विभाग की गाइडलाइंस साफ नहीं हैं।
उपभोक्ता मामलों के विभाग के अडिशनल सेक्रटरी मधुलिका सुकुल ने कहा, अभी यह केंद्र और राज्य सरकारों के लिए अडवाइजरी है और इस पर काम चल रहा है। अगर यह कानून बनता है तो उसे सार्वजनिक कर लोगों तक पहुंचाया जाएगा। विभाग का हमेशा से मानना रहा है कि सर्विस चार्ज अनुचित व्यापार पद्धति है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*