Saturday , 14 December 2019
Top Headlines:
Home » Hot on The Web » शिवसेना का टाइम खत्म, राकांपा का शुरू

शिवसेना का टाइम खत्म, राकांपा का शुरू

पल-पल में बदल रही महाराष्ट्र की राजनीति
राज्यपाल ने शिवसेना की समय बढ़ाने की मांग ठुकराई, तीसरी बड़ी पार्टी राकांपा को 24 घंटे का समय दिया
राज्यपाल से मिलने के बाद बोले आदित्य ठाकरे
सरकार बनाने की इच्छा के बारे में गवर्नर को बताया, कांग्रेस-एनसीपी से बात जारी

मुंबई (एजेंसी)। महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर जारी राजनीतिक घटनाक्रम में सोमवार को उस वक्त नया मोड़ आ गया, जब शिवसेना तय समय यानी रात में साढ़े सात बजे तक सरकार बनाने का दावा पेश नहीं कर सकी। गवर्नर ने शिवसेना को और समय देने से भी इनकार कर दिया। शिवसेना के नेता आदित्य ठाकरे राजभवन से निकलकर मीडिया से मिले ही थे कि राजभवन का बयान भी आ गया। इसके कुछ देर बाद राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने तीसरी सबसे बड़ी पार्टी एनसीपी को सरकार बनाने का न्योता दे दिया।
24 घंटे में पेश करना होगा दावा
खास बात यह है कि राज्यपाल ने राकांपा को भी दावा पेश करने के लिए 24 घंटे का समय दिया है। राकांपा को मंगलवार रात 8.30 तक सरकार बनाने का दावा पेश करना होगा। राज्यपाल से मुलाकात के बाद राकांपा नेता ने भी राज्यपाल से न्योता मिलने की पुष्टि की है। राज्यपाल ने राकांपा नेताओं से करीब 15 मिनट तक बात की। राज्यपाल से मिलने वाले नेताओं में छगन भुजबल, जयंत पाटिल और अन्य सीनियर नेताओं के अलावा अजीत पवार भी मौजूद थे।
राकांपा नेता जयंत पाटिल ने कहा, प्रक्रिया के अनुसार गवर्नर ने हमें तीसरी सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते पत्र दिया है (सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए)। हमने उनसे कहा है कि हम अपनी सहयोगी पार्टी से इस संबंध में चर्चा करेंगे और जल्द से जल्द उन्हें इस बारे में बताएंगे। दावा पेश करने का समय मंगलवार रात 8.30 बजे तक का है।
कांग्रेस और राकांपा ने बुलाई अहम बैठक
भाजपा को सत्ता से बाहर रखने के साथ ही राष्ट्रपति शासन के हालात को टालने के लिए अब कांग्रेस और राकांपा ने सक्रियता बढ़ाई है। राज्यपाल से सरकार बनाने का (शेष पेज 8 पर)मुंबई (एजेंसी)। महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर सस्पेंस बरकरार है। शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे ने पार्टी के सीनियर नेताओं के साथ राज्यपाल से मुलाकात की। ठाकरे ने सरकार बनाने की इच्छा के बारे में गवर्नर को बताया। ठाकरे ने कहा, हमने गवर्नर को सरकार बनाने की इच्छा के बारे में बताया है। और उनसे दो दिन का समय मांगा है। गवर्नर ने समय देने से इनकार कर दिया है, हालांकि उन्होंने हमारे सरकार बनाने के दावे को अधिकारिक तौर पर खारिज नहीं किया है। ठाकरे ने कहा कि हमारी दोनों पार्टियों से बात चल रही है। बता दें कि शिवसेना नेता और राज्यपाल के बीच यह मीटिंग करीब 40 मिनट तक हुई।
मांगा दो दिन का समय, नहीं मिला
राज्यपाल से मिलने के बाद आदित्य ठाकरे ने कहा, कल शाम भाजपा द्वारा सरकार बनाने से इनकार करने के बाद राज्यपाल की तरफ से हमारे पास एक लेटर आया। इस लेटर में हमसे 24 घंटे के भीतर सरकार बनाने की इच्छा के बारे में पूछा गया। आज हमने अपनी इच्छा के बारे में राज्यपाल को सूचित कर दिया। दावा पेश करने के लिए हमने उनसे दो दिन का समय मांगा है। उन्होंने दो दिन का समय देने से इनकार कर दिया है। हालांकि अधिकारिक तौर पर हमारा दावा अभी तक खारिज नहीं हुआ है।
कांग्रेस-एनसीपी से बात जारी
ठाकरे ने कहा, दोनों पार्टियों (कांग्रेस और एनसीपी) की हमसे बात चल रही है। विधायक हमसे बात कर रहे हैं। क्योंकि अभी हमारी बात चल रही है, तो दूसरी (शेष पेज 8 पर)कांग्रेस ने फंसाया पेच, बोली- एनसीपी से बात बाकीनई दिल्ली/मुंबई (एजेंसी)। महाराष्ट्र में नई सरकार को लेकर सस्पेंस गहरा गया है। पहले खबर आ रही थी कि कांग्रेस ने एनसीपी चीफ शरद पवार से बात कर शिवसेना को समर्थन देने का मन बना लिया है, लेकिन शाम करीब साढ़े सात बजे कांग्रेस ने बयान जारी कर पेच फंसा दिया। कांग्रेस ने कहा है कि वह इस मामले में एनसीपी के साथ और चर्चा करना चाहती है। ऐसे में अब तक साफ नहीं हो पाया है कि कांग्रेस शिवसेना का समर्थन करेगी या नहीं। कांग्रेस नेताओं का कहना है कि मंगलवार को पार्टी के नेता एनसीपी के साथ बैठक करेंगे, जिसमें कुछ फैसला हो सकता है। ऐसे में राज्यपाल नई सरकार को लेकर क्या फैसला लेंगे, यह कहा नहीं जा सकता।
कांग्रेस ने क्या कहा : कांग्रेस ने महाराष्ट्र के अपने नेताओं की बैठक के बाद एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि उसे अभी एनसीपी के साथ और चर्चा की जरूरत है। विज्ञप्ति में कहा गया, कांग्रेस वर्किंग कमिटी की आज सुबह बैठक हुई और महाराष्ट्र के ताजा हालात पर लंबी चर्चा हुई। इसके बाद महाराष्ट्र कांग्रेस के नेताओं के साथ भी काफी चर्चा हुई। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एनसीपी चीफ शरद पवार के साथ भी बातचीत की है। कांग्रेस एनसीपी के (शेष पेज 8 पर)शिवसेना के मंत्री सावंत का मोदी कैबिनेट से इस्तीफा
नई दिल्ली (एजेंसी)। महाराष्ट्र में सरकार के गठन को लेकर भारतीय जनता पार्टी से खींचातानी के बीच केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार में शिवसेना के मंत्री अरङ्क्षवद सावंत ने सोमवार को अपने पद से त्यागपत्र दे दिया। सावंत ने अपने आवास पर संवाददाताओं से कहा कि भाजपा चुनाव पूर्व वादों से मुकर गयी है। इसलिए उनके लिए केन्द्र सरकार में बना रहना नैतिक नहीं होगा। अत: उन्होंने केन्द्र सरकार से त्यागपत्र दे दिया है।
इससे पहले सावंत ने ट््िवटर पर अपने इस्तीफे की घोषणा करते हुए कहा था कि वह अपने पद से त्यागपत्र दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में लोकसभा के चुनाव में भाजपा एवं शिवसेना में एक फार्मूले पर सहमति बनी थी और दोनों पक्ष आश्वस्त थे लेकिन भाजपा का इस फार्मूले से मुकरना चौंकाने वाली बात है। शिवसेना का पक्ष सत्य का है, भाजपा का नहीं।
सावंत 2014 में पहली बार मुंबई दक्षिण सीट से लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए थे। सदन में अत्यंत सक्रियता से काम करते हुए उन्होंने खासी लोकप्रियता अर्जित की। 2019 के लोकसभा चुनाव में कई प्रमुख नेताओं के पराजित होने के बाद सावंत को मोदी सरकार में शिवसेना कोटे से कैबिनेट मंत्री बनाया गया। उन्हें भारी उद्योग एवं लोक उपक्रम मंत्री बनाया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*