Sunday , 23 February 2020
Top Headlines:
Home » India » छापों में 3300 करोड़ के हवाला रैकिट का खुलासा

छापों में 3300 करोड़ के हवाला रैकिट का खुलासा

नई दिल्ली (एजेंसी)। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर के कुछ बड़े कॉर्पोरेट्स और हवाला ऑपरेटरों के बीच साठगांठ का पर्दाफाश किया है। नवंबर महीने के पहले हफ्ते में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने फर्जी बिल जारी करने वालों और हवाला के जरिए लेनदेन करने वालों के खिलाफ बड़ा अभियान चलाया। छापों से आईटी डिपार्टमेंट ने 3300 करोड़ रूपये के हवाला रैकिट का पर्दाफाश किया। इस दौरान दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, ईरोड, पुणे, आगरा और गोवा में कुल 42 ठिकानों पर छापेमारी हुई।
सेन्ट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेज (सीबीडीटी) ने सोमवार को दावा किया कि इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने दिल्ली, (शेष पेज 8 पर)इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर के कुछ बड़े कॉर्पोरेट हाउसों और हवाला कारोबारियों के बीच साठगांठ का पर्दाफाश70 हजार कर्मचारियों ने चुना वीआरएस
नई दिल्ली (एजेंसी)। सरकारी दूरसंचार कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) के कर्मचारियों के लिए स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति स्कीम (वीआरएस) के पिछले हफ्ते लॉन्च होने के बाद अब तक करीब 70 हजार कर्मचारियों ने इसके लिए आवेदन किया है। बीएसएनएल के चेयरमैन और एमडी पी. के. पुरवार ने सोमवार को यह जानकारी दी।
बीएसएनएल में करीब 1.5 लाख कर्मचारी हैं जिनमें से कुल मिलाकर करीब 1 लाख कर्मचारी वीआरएस के लिए अर्ह हैं। बीएसएनएल ने करीब 77,000 कर्मचारियों के स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति का लक्ष्य रखा है। कॉर्पोरेशन में मौजूदा वीआरएस स्कीम की प्रभावी तिथि 31 जनवरी 2020 है। वीआरएस योजना को देखते हुए दूरसंचार विभाग ने बीएसएनएल को व्यापार खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में टेलीफोन एक्सचेंज की व्यवस्था सुचारू बनाए रखने और परिवर्तन के दौर को सुगम बनाये रखने के लिए उपाय करने को कहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*