Friday , 26 May 2017
Top Headlines:
Home » India » Mumbai » गोवा: रातभर जागे गडकरी, शाह ने यूं छीनी थी कांग्रेस की उम्मीद

गोवा: रातभर जागे गडकरी, शाह ने यूं छीनी थी कांग्रेस की उम्मीद

मुंबई। गोवा विधानसभा चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी कांग्रेस के हाथों से सरकार बनाने का मौका छीनकर भाजपा ने उसे बुरी तरह चौंका दिया। हालांकि, भाजपा की इस कामयाबी के पीछे पार्टी अध्यक्ष अमित शाह और सीनियर नेता नितिन गडकरी की विशेष भूमिका रही। शाह के जोर देने के कारण ही चुनाव नतीजों के सामने आने की शुरूआत होते ही गडकरी ऐक्शन में आ गए और भाजपा की रणनीति को अमली जामा पहनाने में कामयाब रहे।
सत्ता विरोधी लहर का सामना कर रही भाजपा 13 सीट पाने में कामयाब रही। वहीं, कांग्रेस को 17 सीटें मिलीं। भाजपा गोवा यूनिट के प्रभारी गडकरी ने बताया, नतीजे जब सामने आए तो पार्टी चीफ (अमित शाह) ने मुझे कॉल किया और मुझे मिलने के लिए कहा। मैंने उनसे कहा कि मैं उनके निवास पर आता हूं, वह मेरे यहां न आएं। अगले 30 से 45 मिनट में हमने उनके निवास पर ही मिलने का फैसला किया। शाम के 7 बज रहे थे। हमने गोवा के राजनीतिक हालात पर विस्तृत चर्चा की। हमारे पास संख्याबल के नाम पर 13 विधायक थे। मैंने उनसे कहा कि हमारे पास उम्मीद के मुताबिक समर्थन नहीं है। उन्होंने मुझसे कहा कि हमें (गोवा में) सरकार बनाना है और उन्होंने मुझे तुरंत गोवा रवाना होने के लिए कहा। गडकरी ने बताया कि इसके बाद वह बिना देरी किए घर आए और वहां से गोवा के लिए रवाना हो गए।
गडकरी ने आगे बताया, गोवा में नेताओं के प्रतिनिधिमंडल ने मुझसे कहा कि (मनोहर) पर्रिकर के लिए रक्षा मंत्रालय छोड़कर गोवा लौटना सही नहीं है। मैंने पर्रिकर से भी बात की। इसके बाद, गडकरी रात भर सोए नहीं और भाजपा गठबंधन की संभावनाओं पर काम करते रहे। वह गठबंधन, जो एक शर्त पर होने वाला था। गडकरी ने बताया, रात डेढ़ बजे एमजीपी के सुदिन धावलिकर ने मुझसे मुलाकात की। मैं उनको लंबे वक्त से जानता था। हमारे बीच बातचीत हुई। उन्होंने हमें समर्थन देने की बात कही। इसके बाद गोवा फॉरवर्ड पार्टी के विजय सरदेसाई मुझसे मिलने पहुंचे।
गडकरी के मुताबिक, सुबह 5 बजे, उन्होंने (एमजीपी और जीएफपी) ने शर्त रखी कि वे भाजपा को तभी समर्थन देंगे, जब पर्रिकर को मुख्यमंत्री बनाया जाए। मैंने सुबह 5 बजकर 15 मिनट पर अमित शाह से बात की और इस बात की जानकारी उन्हें दी। मैंने उन्हें कहा कि मैं फैसला नहीं कर पा रहा और मुझे उनकी राय की जरूरत है। उन्होंने कहा कि पीएम इस वक्त सो रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह सुबह 7 बजे पीएम को कॉल करेंगे। उन्होंने कहा कि अगर पर्रिकर को गोवा भेजना भी है तो भाजपा संसदीय बोर्ड फैसला करेगा और पर्रिकर की इच्छा पर भी विचार किया जाएगा।
सुबह साढ़े 8 बजे शाह ने गडकरी को फोन किया और बताया कि उन्होंने पीएम और अन्य लोगों से बातचीत की। गडकरी ने बताया, हर किसी का कहना है कि अगर हम गोवा में सरकार बना सकते हैं और पर्रिकर तैयार हैं तो हमें ऐसा करना चाहिए। बता दें कि मनोहर पर्रिकर ने गुरूवार को गोवा विधानसभा में बहुमत साबित कर दिया। 40 विधानसभा सीट वाली विधानसभा में उनके समर्थन में 22 सदस्यों ने वोट दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*