Saturday , 29 April 2017
Top Headlines:
Home » Political » केजरीवाल पर 200 करोड़ हड़पने का आरोप

केजरीवाल पर 200 करोड़ हड़पने का आरोप

kejriwalजालंधर। आम आदमी पार्टी के निलंबित सदस्य और चंदा बंद सत्याग्रह के संयोजक डॉ. मुनीश रायजादा ने ‘आपÓ पर वित्तीय पारदर्शिता के नाम पर जनता को धोखा देने का आरोप लगाते हुए चुनाव आयोग से मामले की जांच करने की मांग की है।
डॉ. रायजादा ने मंगलवार को बताया कि पार्टी वित्तीय मामलों में 100 फीसदी पारदर्शिता बरतने तथा मिलने वाले चंदे की पाई पाई का हिसाब वेबसाइट पर अपलोड करने का दावा करती है लेकिन हकीकत इससे अलग है। उन्होंने बताया कि पार्टी को जून 2016 के बाद से चंदा देने वालों का नाम वेबसाइट पर नहीं डाला गया है तथा दानदाताओं की सूची को वेबसाइट से हटा दिया गया है। उन्होंने बताया कि पार्टी की गलत नीतियों के खिलाफ वह दिसंबर 2016 से चंदा बंद सत्याग्रह चला रहे हैं।
शिकागो में डॉक्टर रहे रायजादा ने बताया कि उन्होंने विदेशों में लोगों से चंदे के माध्यम से पार्टी के लिए फंड जुटाने में अहम भूमिका अदा की है। लेकिन अरङ्क्षवद केजरीवाल द्वारा लालू प्रसाद यादव को समर्थन देने का विरोध करने पर उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया गया। उन्होंने बताया कि ज्यादातर चंदा अमेरिका और कनाडा से इकट्ठा किया गया है लेकिन कानून अनुसार राजनीतिक पार्टियां विदेशी नागरिकों से चंदा नहीं ले सकती इसलिए यह चंदा गैरकानूनी तरीके से हवाला के जरिए भारत भेजा गया।
डॉ. रायजादा के साथ मौजूद आप की कोष जुटाने तथा एनआरआई ङ्क्षवग होशियारपुर और कनाडा के पूर्व समन्वयक वङ्क्षरदर ङ्क्षसह परिहार ने आरोप लगाया कि आप पार्टी ने पंजाब से लगभग 200 करोड़ रूपये का चंदा एकत्र किया था जिसका कोई हिसाब नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने खुद पार्टी कार्यों के लिए 80 लाख रूपये खर्च किए हैं।
परिहार ने आप के पंजाब प्रभारी संजय ङ्क्षसह तथा राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य दुर्गेश पाठक पर भ्रष्टाचार तथा नशा करने का आरोप लगाते हुए बताया कि दोनों नेता शराब तथा अफीम का सेवन करते हैं तथा उन्होंने पंजाब में टिकटें देने के एवज में उम्मीदवारों से करोड़ों रूपए लिए हैं। उन्होंने बताया कि केजरीवाल के होशियारपुर दौरे पर उन्होंने चंदे का हिसाब मांगा तो उन्होंने मुझे पार्टी से ही निकाल दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*