Monday , 24 April 2017
Top Headlines:
Home » Udaipur » ऋषभदेव में स्वास्थ्य केन्द्र और एम्बुलेंस में मानसिक विक्षिप्त ने आग लगाई

ऋषभदेव में स्वास्थ्य केन्द्र और एम्बुलेंस में मानसिक विक्षिप्त ने आग लगाई

उदयपुर। जिले के ऋषभदेव के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में शुक्रवार तड़के एक मानसिक रूप से परेशान युवक ने ड्रेसिंग रूम और चिकित्सालय के बाहर खड़ी एम्बुलेंस में लगा दी। घटना के बाद मौके पर उदयपुर से एक दमकल और ऋषभदेव धागा मिल से गए फायरकर्मियों ने आग पर काबू पाया। इस आगजनी में ड्रेसिंग रूम के साथ-साथ पास ही स्थित स्टोर रूम में भी सारा सामान जल गया। वहीं एम्बुलेंस को काफी नुकसान हुआ है। घटना के दौरान वहीं पर खड़े रहे मानसिक विक्षिप्त को नर्सिंगकर्मियों ने पकड़ लिया और पुलिस के हवाले कर दिया। जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।
जानकारी के अनुसार तड़के करीब 3.30 बजे ऋषभदेव स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के परिसर में खड़ी 108 एम्बुलेंस में एक मानसिक विक्षिप्त घुस गया। जिसने एम्बुलेंस में रखे कपड़ों को एक जगह पर एकत्रित किया और इसमें आग लगा दी। इसके बाद यह विक्षिप्त स्वास्थ्य केन्द्र में घुस गया और काफी देर तक इस स्वास्थ्य केन्द्र में ही घूमता रहा था। विक्षिप्त के निकलने के कुछ देर बाद ही स्वास्थ्य केन्द्र के ड्रेसिंग रूम में से धुआं निकलने लगा। यह देखकर स्वास्थ्य केन्द्र पर कार्यरत नर्सिंगकर्मी भागकर गए और ड्रेसिंग रूम में जाकर देखा तो ड्रेसिंग रूम में स्थित स्टोर रूम से धुआं निकल रहा था। यह देखकर जैसे ही स्टोर रूम खोला तो अंदर से आग की लपटें निकली। जिसको देखकर हंगामा खड़ा हो गया। इस बारे में तत्काल पुलिस को सूचना दी। इधर चिकित्सालय के बाहर खड़ी एम्बुलेंस में से भी धुआं निकलने पर नर्सिंग कर्मियों और अन्य लोगों ने एम्बुलेंस पर पानी डालकर आग बुझाने का काम शुरू कर दिया। इसी दौरान सूचना पर थाने से उपनिरीक्षक पवन कुमार मय जाब्तेे के पहुंचे और जाते ही स्थानीय लोगों की सहायता से आग पर काबू पाने का काम शुरू कर दिया।
इसके साथ ही पुलिस ने दमकल को सूचना दी। जिस पर उदयपुर से एक दमकल मौके के लिए रवाना हुई। इधर धागा मिल में भी सूचना देकर वहां से फायर टीम को बुलाया गया। इस दौरान स्थानीय लोगों की सहायता से आग पर काबू पाने का प्रयास करते रहे। एक घंटे बाद मौके पर दमकल आई और दमकलकर्मियों और मिल के फायरकर्मियों ने आग पर काबू पाया। सुबह करीब 5.50 बजे आग पूरी तरह से बुझाई गई। इस आग में स्टोर रूम में रखी दो अलमारियां, रिकार्ड के साथ-साथ अन्य सामान जलकर नष्ट हो गया। वहीं परिसर में खड़ी एम्बुलेंस को भी काफी नुकसान हुआ है।
नर्सिंगकर्मियों ने चिकित्सालय परिसर में ही इस मानसिक विक्षिप्त को पकड़ लिया और पुलिस के हवाले कर दिया। सूचना पर सीएचसी प्रभारी और ब्लॉक सीएमएचओ भी आए। इस मानसिक रूप से विक्षिप्त युवक की पहचान महावीर पुत्र अमरा मीणा निवासी पादेड़ी ऋषभदेव के रूप में हुई है। दोपहर बाद ऋषभदेव के ब्लॉक मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नागेन्द्रसिंह राजावत ने इस मानसिक रूप से विक्षिप्त महावीर मीणा के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। सुबह उपखण्ड अधिकारी, डिप्टी, तहसीलदार, थानाधिकारी सहित अन्य अधिकारी मौके पर गए।
ऑक्सीजन सिलेण्डरों को निकाला, बड़ा हादसा टला
इस स्टोर रूम में सीएचसी में काम आने वाले ऑक्सीजन के पांच सिलेण्डर भी रखे हुए थे। समय पर इन्हें निकाल लिया, यदि सिलेण्डर आग पकड़ लेते तो बड़ा हादसा हो सकता था। नर्सिंगकर्मियों की सूझबूझ से एक बड़ा हादसा होने से टल गया। हालांकि समय रहते इन्हें बाहर निकाल दिया गया।
मरीजों मेें मचा हड़कंप, नहीं गए उच्चाधिकारी
घटना के दौरान सीएचसी में ज्यादा मरीज तो नहीं थी, फिर भी जो भी थे, वे भागकर बाहर निकल गए। जो कुछ गंभीर थे, उन्हें उनके परिजन बाहर लेकर गए और बाहर ही बैठा दिया गया। बाद में पुलिस और आस-पास के लोग आए पानी डालकर आग पर काबू करने का प्रयास किया गया। हालांकि इतनी बड़ी घटना के बाद भी मौके पर स्वास्थ्य विभाग के उच्चाधिकारी नहीं गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*