Sunday , 30 April 2017
Top Headlines:
Home » Political » ‘अभी चरमोत्कर्ष बाकी, पंचायत से संसद तक हो भाजपा’

‘अभी चरमोत्कर्ष बाकी, पंचायत से संसद तक हो भाजपा’

भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक में बोले-शाह

भुवनेश्वर। भाजपा केंद्र की सत्ता के अलावा 13 राज्यों में शासन कर रही है, लेकिन पार्टी अध्यक्ष अभी संतुष्ट नहीं हैं। भुवनेश्वर में भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि अभी भाजपा का स्वर्णिम काल नहीं आया है। उन्होंने कहा, 2014 में जब हम जीते तो कहा गया कि भाजपा चरमोत्कर्ष पर पहुंच चुकी है, 2017 में भी यही कहा गया, लेकिन भाजपा का चरमोत्कर्ष आना बाकी है। अभी 13 राज्यों में हमारी सरकार है, लेकिन हमारी कल्पना है कि देश के हर प्रदेश में हमारी सरकार हो। एनडीए में 31 दल शामिल हो चुके हैं। 2019 में फिर हमें नरेंद्र मोदी जी को पीएम बनाना है। पंचायत से संसद तक भाजपा होनी चाहिए। अमित शाह ने यह भी कहा कि भाजपा का स्वर्णिम काल देश के स्वर्णिम काल से जुड़ा हुआ है।
केंद्रीय कानून और दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में अमित शाह के भाषण को रखा। शाह ने एक तरफ यूपी में जीत की चर्चा की तो केरल, तमिलनाडु, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल, तेलंगना और उत्तर-पूर्व के राज्यों में पार्टी को मजबूत बनाने का लक्ष्य सामने रखा। इसके लिए कार्यकारिणी के सभी सदस्यों को 15 दिन का समय बूथ पर देने को कहा गया है। खुद अमित शाह सितंबर तक 95 दिनों तक देश के कई राज्यों का दौरा करेंगे और बूथ लेवल वर्कर्स के साथ बैठक करेंगे। संपन्न हुए विधानसभा चुनावों का जिक्र करते हुए अमित शाह ने कहा, राजनीतिक विश्लेषक दो तिहाई बहुमत को बड़ी जीत बताते रहे हैं, लेकिन भाजपा ने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में तीन चौथाई से बहुमत हासिल की है। मणिपुर में जहां एक भी पार्षद नहीं था, वहां हमारी सरकार बनी है। मणिपुर और गोवा में हमारा वोट प्रतिशत सबसे अधिक है। हम संकल्प लें कि गुजरात और हिमाचल में भी जीत हासिल करेंगे।
क्षेत्रीय दलों को भी हराया
अमित शाह ने कहा, अभी तक विश्लेषक कहते थे कि भाजपा कांग्रेस को तो हरा सकती है, लेकिन क्षेत्रीय दलों के सामने कमजोर पड़ जाती है, यूपी की जनता ने इसे भी झूठा साबित कर दिया, 15 सालों से अदल-बदलकर सत्ता में रही सपा और बसपा को हराया। 2014 का रिजल्ट ऐतिहासिक था। यूपी में 80 में से 73 सीटें जीतने पर कहा गया कि ऐसा ऐसा संयोगवश हो गया, लेकिन आज 403 में 325 सीटें जीतना बताता है कि यूपी के लोग भाजपा के साथ हैं। यूपी ने जातिवाद, परिवारवाद को ठुकरा दिया है और काम करने की राजनीति पर भरोसा जताया है।
‘ईवीएम पर हमला, हार का बहानाÓ
विधानसभा चुनाव के बाद से कई विपक्षी पार्टियों की ओर से ईवीएम पर उठाए जा रहे सवालों को लेकर शाह ने कहा, हम यह अपेक्षा करते थे कि हारे हुए दल ईमानदारी से हार को स्वीकार करेंगे, लेकिन अब वे बहाना ढूंढ़ रहे हैं। वे ईवीएम पर ठीकरा फोड़ रहे हैं। जब कांग्रेस, सपा, बसपा जीती तो क्या ईवीएम ठीक था? दिल्ली, बिहार में भाजपा हारी तो क्या ईवीएम ठीक था? इस तरह की बात करना चुनाव आयोग का अपमान है। शाह ने केरल त्रिपुरा और बंगाल में भाजपा व संघ के कार्यकर्ताओं के साथ हो रही हिंसा की भी निंदा की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*